health researchers identify oral bacteria linked to esophageal cancer– Article

0
6

Advance Call Recorder

फोटो- Pexels

News18Hindi

Updated: December 7, 2017, 10:55 AM IST

सुबह की शुरुआत दांतों की सफाई के साथ होती है. सफेद चमकते दांत आत्मविश्वास बढ़ाते हैं. इसलिए भी लोग दांतो की सफाई का खास ख्याल रखते हैं.
एक रिसर्च में यह बात सामने आई है कि मसूड़े की बीमारी पैदा करने वाले बैक्टीरिया की वजह से आहार नाल के कैंसर की संभावना बढ़ जाती है. यानी कि अगर दांतों के साथ मसूड़ों की सफाई का खास ख्याल नहीं रखेंगे तो कैंसर होने की आशंका बढ़ सकती है.

एसोफेजियल एडनोकारसिनोमा और एसोफेजियल स्क्वेमस सेल कारसिनोमा एलिमेंट्री केनाल को प्रभावित करने वाले कैंसर हैं.

न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के मेडिकल साइंस के प्रोफेसर जियांग अह्न के ने कैंसर रिपोर्ट नाम की एक पत्रिका में लिखा है कि आहारनाल का कैंसर बेहद आम है और कैंसर से होने वाली मौतों में इसका छठा स्थान है. जब यह रोग अपने अंतिम चरण में होता है तब इसके विषय में जानकारी मिलती है. दुनिया में केवल 15 से 25 फीसदी लोग ही ऐसे हैं जो इस रोग से ग्रसित होने के बाद पांच साल से ज्यादा जी पाते हैं.शोधकर्ताओं को अध्ययन के दौरान यह बात पता चली कि टैनेरिला फोर्सिथिया नाम का बैक्टीरिया एसोफेजियल एडनोकारसिनोमा के लिए जिम्मेदार होते हैं. एसोफेजियल स्क्वेमस सेल कारसिनोमा के लिए पोरफाइरोमोनस जिंजिवलिस बैक्टीरिया जिम्मेदार होते हैं. सामान्यत: ये बैक्टीरिया मसूड़ों में पाए जाते हैं.

Leave a Reply