इस गांव में बच्चे नहीं पैदा होते

0
12

Advance Call Recorder

सांका जागीर गांव में बच्चे इसलिए नहीं पैदा कराए जाते क्योंकि इससे गांव में बना श्याम मंदिर अपवित्र हो सकता है

News18Hindi

Updated: December 8, 2017, 5:31 AM IST

गांव उसे कहते हैं, जहां लोगों के घर होते हैं. जहां वो अपने परिवार के साथ हंसते-खेलते अपनी जिंदगी बिताते हैं. लोग जहां भी रहते हैं, वहां उनके बच्चे भी पैदा होते हैं, लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि एक ऐसा भी गांव है, जहां बच्चे पैदा करने की मनाही है.

जी हां, यह गांव है मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से 77 किलोमीटर दूर सांका जागीर. ये गांव ब्यावरा रोड पर स्थित चिड़ी-खो अभयारण्य से लगभग 7 किलोमीटर की दूरी पर है. लगभग 1200 की आबादी वाले इस गांव में ज्यादातर परिवार गुर्जर समाज से  हैं.

यह गांव एक खास और अजीबओगरीब मान्यता के कारण पूरे देश में चर्चित है. गांव वालों के मुताबिक इस गांव में बच्चे इसलिए नहीं पैदा कराए जाते क्योंकि इससे गांव में बना श्याम मंदिर अपवित्र हो सकता है.

इसी मान्यता के कारण पिछले कई दशकों से इस गांव में किसी महिला का प्रसव नहीं हुआ है. जब भी किसी महिला को प्रसव होने वाला होता है तो उसे गांव से बाहर लेकर जाया जाता है. महिला का प्रसव या तो उसके मायके में या शहर के किसी अस्पताल में या फिर अंतिम विकल्प के तौर पर गांव के बाहर खेतों में ही होता है. इस मामले में गांव के बड़े-बुजुर्गों का कहना है कि यदि किसी का बच्चा गांव में पैदा होता है तो वह विकलांग हो जाएगा या फिर उस परिवार पर मुसिबतें टूट पड़ेंगी.इस गांव के लगातार 35 साल तक सरपंच रहे मांगीलाल सिंह बताते हैं कि हमने अपने जीवन में नहीं देखा कि किसी भी महिला ने गांव में बच्चे को जन्म दिया हो.

यदि महिला अपने मायके या फिर अस्पताल नहीं जा पातीं तो उसे डिलीवरी की तारीख के एक हफ्ते पहले खेतों में बनी झोंपड़ी में शिफ्ट कर दिया जाता है. खुद मांगीलाल बताते हैं कि उनके 8 लड़के हैं और सभी खेत में बनी झोपड़ी में ही पैदा हुए.

वहीं उनके बेटे और नए सरपंच नरेंद्र सिंह इस प्रथा को एक कुरीति मानते हैं. वो अपने गांव को इस अजीब मान्यता से छुटकारा दिलाना है. पंचायत के बाकी सदस्य भी उनके साथ हैं. इस संबंध में प्रशासन भी उनकी सहायता करने को पूरी तरह से तैयार है.

सरपंच नरेंद्र अब गांव वालों को यह समझाने में लगे हैं कि हम श्यामजी को पूजते हैं, तो उन पर विश्वास भी करना चाहिए. उनके कारण कोई क्यों विकलांग पैदा होगा. यह केवल अंधविश्वास है.

Leave a Reply