अमरीका के बाद इसराइल भी यूनेस्को छोड़ने की तैयारी में

0
20

Advance Call Recorder

इमेज कॉपीरइट
AFP

अमरीका के बाद अब इसराइल भी संयुक्त राष्ट्र के सांस्कृतिक संगठन यूनेस्को से हटने जा रहा है.

इसराइल के प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू ने कहा है कि उन्होंने विदेश मंत्रालय को यूनेस्को से अलग होने की तैयारी करने को कहा है.

इससे पहले अमरीका ने यूनेस्को पर ‘इसराइल विरोधी’ रुख अपनाने का आरोप लगाया था और संगठन छोड़ दिया था.

अमरीका ने यूनेस्को पर पक्षपात के आरोपों के अलावा संगठन के बढ़ते हुए आर्थिक बोझ को लेकर चिंता लाते हुए इसमें सुधार करने की ज़रूरत बताई थी.

इसराइल के प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू ने एक बयान जारी करके अमरीका के इस फ़ैसले को ‘बहादुरी और नैतिकता भरा’ करार दिया है.

यूनेस्को को दुनिया भर में विश्व धरोहर स्थल चुनने के लिए पहचाना जाता है. इन दिनों यह संगठन अपने नए नेता के चुनाव की प्रक्रिया से गुज़र रहा है.

‘आसान निशाना था यूनेस्को’

बीबीसी के डिप्लोमैटिक संवाददाता जॉनथन मार्कस के मुताबिक अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप के लिए यूनेस्को आसान टारगेट है.

इमेज कॉपीरइट
Getty Images

वह बताते हैं, “यह बहुपक्षीय संस्था है जो शिक्षा और विकास से जुड़े लक्ष्यों, जैसे कि सेक्स एजुकेशन, साक्षरता और महिलाओं की बराबरी के लिए काम करती है.”

अमरीका के यूनेस्को से हटने के कदम को बहुत से लोग ट्रंप की ‘अमरीका फ़र्स्ट’ और बहुपक्षीय संगठन विरोधी नीति के नतीजे के तौर पर भी देखेंगे.

मगर इस मामले में विवाद का असली कारण संगठन का कथित इसराइल-विरोधी रवैया है.

नाराज़गी की वजह

अमरीका और इसराइल का यह फ़ैसला यूनेस्को द्वारा लगातार उठाए गए कुछ क़दमों को लेकर आया है, जिनकी दोनों देश आलोचना कर चुके हैं.

हाल ही में यूनेस्को ने वेस्ट बैंक और पूर्वी यरूशलम में गतिविधियों के लिए इसराइल की आलोचना की थी. इससे पहले इसी साल यूनेस्को ने पुराने हिब्रू शहर को फ़लिस्तीन के विश्व धरोहर स्थल के रूप में मान्यता दी थी. इसराइल का कहना था कि इस कदम से यहूदियों के इतिहास को खारिज कर दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट
Reuters

Image caption

नेतन्याहू ने विदेश मंत्री को यूनेस्को से अलग होने की तैयारी करने को कहा है

पिछले साल इसराइल ने यूनेस्को को सहयोग देना बंद कर दिया था क्योंकि संगठन ऐसा विवादित प्रस्ताव लाया था, जिसमें यरूशलम की एक अहम पवित्र जगह को लेकर यहूदियों का कोई ज़िक्र नहीं था. इस प्रस्ताव में यरूशलम के पवित्र स्थलों और कब्जे वाले वेस्ट बैंक पर इसराइल की गतिविधियों की भी आलोचना की गई थी.

इससे पहले 2011 में जब यूनेस्को ने फ़िलीस्तीन को पूर्ण सदस्यता देने का फ़ैसला किया था, तब अमरीका ने अपनी फ़ंडिंग में 22 फ़ीसदी की कटौती की थी.

‘इसराइल फ़लस्तीन शांति समझौता संभव है’

ट्रंप अरब देशों के चहेते अमरीकी राष्ट्रपति

अमरीका पहले भी हो चुका है अलग

अमरीका यूनेस्को का संस्थापक सदस्य था. मगर 1984 में रीगन प्रशासन ने इस पर भ्रष्टाचार और सोवियत संघ के प्रति झुकाव रखने का आरोप लगाते हुए नाता तोड़ लिया था. अमरीका 2002 में दोबारा इस संगठन से जुड़ा था.

इससे पहले राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप अमरीका की तरफ़ से संयुक्त राष्ट्र को दी जाने वाली मदद पर भी नाखुशी ज़ाहिर कर चुके हैं. उनका कहना था अमरीका का योगदान असंगत है.

अमरीका संयुक्त राष्ट्र के सामान्य बजट का 22 फ़ीसदी और पीसकीपिंग का 28 फीसदी बजट फंड करता है.

इमेज कॉपीरइट
Getty Images

Image caption

यूएन को अमरीका की तरफ़ से मिलने वाले फंड को लेकर ट्रंप नाराज़गी जता चुके हैं

‘अमरीका का हटना क्षति’

यूनेस्को की प्रमुख इरीना बोकोवा ने अमरीका के फ़ैसले को ‘बेहद अफ़सोसनाक’ बताया था. हालांकि, उन्होंने माना था कि पिछले कुछ सालों में संगठन में ‘राजनीतिकरण’ बढ़ गया है.

यूनेस्को प्रमुख ने अमरीका के हटने को ‘संयुक्त राष्ट्र परिवार’ और बहुपक्षीयता के लिए क्षति बताया है.

अमरीका का यूनेस्को से हटने का फ़ैसला दिसंबर 2018 में प्रभाव में आएगा. तब तक वह इसका पूर्ण सदस्य बना रहेगा.

मुस्लिम देशों की आंखों में क्यों चुभता है इसराइल

रेत में कैसे हरियाली लाता है इसराइल?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Leave a Reply